वनस्पति विज्ञान क्या है बॉटनी का अर्थ, परिभाषा, जनक एवं शाखाएं | Botany in hindi

Botany in hindi : पौधे हमारी पृथ्वी पर उपस्थित सभी जीवो के जीवन के लिए एक महत्वपूर्ण घटक है। इन्हें पृथ्वी पर उपस्थित समस्त जीवो के जीवित रहने के लिए भोजन, ईंधन एवं ऑक्सीजन जैसे जरूरी आवश्यकताओं की जननी माना जाता है। ऐसे में दुनिया के सबसे प्राचीन प्राकृतिक विज्ञानों मे से एक वनस्पति विज्ञान (botany in hindi) के बारे मे जानना हमसब के लिए बेहद जरूरी है। तो चलिए किसान सहायता के इस खास लेख में हम दुनिया के सबसे प्राचीन प्राकृतिक विज्ञानों मे से एक वनस्पति विज्ञान के बारे में विस्तार से जानते है।

वनस्पति विज्ञान क्या है ? | what is botany in hindi :

बॉटनी (वनस्पति विज्ञान), जीव विज्ञान का वह महत्वपूर्ण शाखा है जिसमें पृथ्वी पर मौजूद उन समस्त पेड़-पौधों तथा उन बहुकोशिकीय जीवो का अध्ययन किया जाता है जो प्रकाश संश्लेषण के द्धारा अपना भोजन का निर्माण करते है। वनस्पति विज्ञान के अन्तर्गत पौधे एवं इन बहुकोशिकीय जीवों के शारीरीक संरचना, विकास, प्रजनन, पारिस्थितिकी तथा उनके रहन-सहन जैसे महत्वपूर्ण विषयों का वैज्ञानिक अध्ययन किया जाता हैं।

वनस्पति विज्ञान का अर्थ | botany meaning in hindi :

बॉटनी (वनस्पति विज्ञान) शब्द की उत्पत्ति यूनानी भाषा का एक शब्द ‘bitane‘ से हुई है। यूनानी भाषा में इस शब्द का अर्थ पेड़-पौधे, घासों एवं चरागाहों आदि से लगाया जाता है। दूसरे अर्थों में ‘bitane’ शब्द का अर्थ एक विशेष प्रकार के पौधे या किसी निश्चित क्षेत्र के पेड़ पौधों के जीवन के विज्ञान का उल्लेख से लगाया जाता है।

वनस्पति विज्ञान की परिभाषा | botany definition in hindi :

जीव विज्ञान का वह महत्वपूर्ण शाखा जिसमें पेड़-पौधों तथा उन समस्त जीवों का वैज्ञानिक अध्ययन किया जाता है जो प्रकाश संश्लेषण के निर्माण करके अपना जीवन चक्र की पूर्ति करते है। वनस्पति विज्ञान कहलाता है।

इसे भी पढें :

A.यह है भारत के 10 सबसे अच्छे कॉलेज
B.पढिये a to z tablet के बारे में पूरी जानकारी
C. कैसे करें अपने youtube to mp3 download
D.आखिर क्या है Play india lottery game ?
E.पढिये हिंदी व्याकरण के एक महत्वपूर्ण अध्याय हिंदी समास को

वनस्पति विज्ञान के जनक (पिता) | Father of botany in hindi :

प्रसिद्ध यूनानी विद्धान थियोफ्रेस्टस को वनस्पति विज्ञान के पिता (जनक) के रुप मे जाना जाता है। पौधों पर उनके द्धारा लिखी गई विश्व प्रसिद्ध पुस्तक ‘इंंक्वायरी इन प्लांट्स‘ के कारण उनको यह उपाधि प्रदान किया गया है। इस पुस्तक में वह पौधों के शारिरिक संरचना, प्रजनन एवं जीवनकाल के अनुसार उनको विभिन्न भागों में बांटे तथा इस पुस्तक में वे पौधों के भौतिक गुणों को विस्तार से वर्णन किये थें। इनका जन्म 370 ई० पू० मे हुआ था। थियोफ्रेस्टस अरस्तु के शिष्य थे। इनको एक प्रसिद्ध वनस्पतिशास्त्री एवं जीव वैज्ञानिक भी माना जाता हैं।

A.यह है भारत के 10 सबसे अच्छे कॉलेज
B.पढिये a to z tablet के बारे में पूरी जानकारी
C. कैसे करें अपने youtube to mp3 download
D.आखिर क्या है Play india lottery game ?
E.पढिये हिंदी व्याकरण के एक महत्वपूर्ण अध्याय हिंदी समास को

वनस्पति विज्ञान की प्रमुख शाखाएं | branches of botany in hindi :

वनस्पति विज्ञान की कुछ महत्वपूर्ण शाखाएं निम्नलिखित है

(A). पादप आकृति विज्ञान (plant morphology) : वनस्पति विज्ञान इस महत्वपूर्ण शाखा में पौधों के बाहरी संरचना एवं बनावट जैसे महत्वपूर्ण घटकों का अध्ययन करते हैं।

(B). पादप शारीरिक विज्ञान (plant anatomy) : वनस्पति विज्ञान का वह महत्वपूर्ण शाखा जिसमें पौधों के आन्तरिक संरचना एव बनावट का वैज्ञानिक अध्ययन किया जाता है। एनाटॉमी विज्ञान कहलाता है।

(C). पादप ऊतक विज्ञान (Plant histology) : यह भी वनस्पति विज्ञान का एक महत्वपूर्ण शाखा है। वनस्पति विज्ञान के इस शाखा में पौधों के कोशिकाओं एवं ऊतकों को किसी सुक्ष्मदर्शीय के मदद से वैज्ञानिक अध्ययन किया जाता हैं।

(D). पादप कोशिका विज्ञान (plant cytology) : जैसा कि नाम से ही स्पष्ट है। वनस्पति विज्ञान के इस शाखा में पौधों की कोशिकाओं की संरचना, कार्य एवं उनके महत्वपूर्ण का बारीकी से अध्ययन किया जाता हैं।

(E). पादप कार्यिकी विज्ञान (plant physiology) : वनस्पति विज्ञान के इस महत्वपूर्ण शाखा में पौधों के भौतिक एवं रासायनिक पहलुओं का अध्ययन किया जाता है। इस शाखा के अन्तर्गत पौधे के वृद्धि, विकास, श्वसन, प्रकाश संश्लेषण तथा पौधों पर पर्यावरण के पड़ने वाले प्रभावों का अध्ययन किया जाता है।

(F). पादप वर्गीकरण (plant taxonomy) : plant taxonomy के अन्तर्गत पौधे के उनके विभिन्न विशेषता, गुणों, शारीरिक संरचनाओं एवं रहन-सहन के अन्तर्गत विभिन्न भागों में बांटकर वैज्ञानिक अध्ययन किया जाता है।

(G). पादप पारिस्थितिकी (plant ecology) : वनस्पति विज्ञान के इस शाखा के अन्तर्गत पौधों एवं पर्यावरण के बीच के संम्बंधों का अध्ययन किया जाता है।

(H). पादप रोग विज्ञान (plant pathology) : इस शाखा के अन्तर्गत पौधों पर लगने वाले विभिन्न प्रकार के रोगों के कारणों, लक्षणों एवं उनके नियंत्रण करने जैसे विभिन्न पहलुओं का अध्ययन किया जाता हैं।

(I). पादप प्रजनन (plant breeding) : वनस्पति विज्ञान के इस शाखा के अन्तर्गत पौधों के प्रजनन जैसे महत्वपूर्ण पहलुओं के अध्ययन करके पौधों के उन्नत किस्मों का विकास किया जाता हैं।

(J). पादप माइक्रोबायोलॉजी (plant microbiology): वनस्पति विज्ञान के इस शाखा के अन्तर्गत पौधों के सम्बंध में विभिन्न प्रकार के माइक्रो जीव (जैसे – कवक, बैक्टीरिया, वायरस आदि) का अध्ययन किया जाता है।

(K). सस्य विज्ञान (agronomy) : सस्य विज्ञान को भी वनस्पति विज्ञान के अन्तर्गत रखा जाता है। वनस्पति विज्ञान के इस शाखा के अन्तर्गत पेड़-पौधों (फसल) को खेतों मे वैज्ञानिक विधियों से उगाने का अध्ययन किया जाता हैं।

(L). बागवानी (horticulture) : इस शाखा के अन्तर्गत बहुवृक्षिय पौधों को वैज्ञानिक दृष्टिकोण से उगाने का अध्ययन किया जाता हैं।

1 Comment
  1. Ansh Gupta says

    वनस्पति विज्ञान की शाखाएं के बारे मे बहुत ही उपयोगी जानकारी देने के लिए आपका धन्यवाद

Leave A Reply

Your email address will not be published.